Mukhyamantri Kirayedaar Bijli Meter Yojana Delhi Cm Tenent Electricity Scheme0
Utility & SanitationState Government Schemes(राज्य की योजनाएं)

मुख्यमंत्री किराएदार बिजली मीटर योजना 2023 दिल्ली: ऑनलाइन आवेदन, सब्सिडी यूनिट, दस्तावेज, पात्रता व हेल्पलाइन

Mukhyamantri Kirayedaar Bijli Meter Yojana 2023 Delhi: Online Apply, Subsidy Amount, Required Documents, Eligibility Criteria & Helpline No.

हमें आज अपने इस आर्टिकल के माध्यम से दिल्ली सर्कार द्वारा शुरू की गई मुख्यमंत्री किराएदार बिजली मीटर योजना 2023 के शुभारंभ की घोषणा करते हुए खुशी हो रही है, जो राज्य में किराएदारों को सस्ती और विश्वसनीय बिजली प्रदान करने के उद्देश्य से एक नई पहल है। यह योजना राज्य में बिजली की आपूर्ति और मांग के बीच की खाई को पाटने के उद्देश्य से शुरू की गई है, विशेष रूप से किराए के आवास में रहने वालों के लिए।

दिल्ली मुख्यमंत्री किराएदार बिजली मीटर योजना 2023 को पूरे राज्य में किराए के आवास में प्रीपेड बिजली मीटर लगाकर लागू किया जाएगा। दिल्ली सीएम टेनेंट इलेक्ट्रिसिटी मीटर स्कीम 2023, राज्य सरकार और बिजली वितरण कंपनियों का एक संयुक्त प्रयास है, जो किरायेदारों को उनके बिजली उपयोग के भुगतान के लिए एक सुविधाजनक और परेशानी मुक्त तरीका प्रदान करती है। यह योजना किरायेदारों को अपने प्रीपेड बिजली मीटरों को ऑनलाइन, मोबाइल ऐप के माध्यम से या निर्दिष्ट रिचार्ज बिंदुओं पर रिचार्ज करने में सक्षम बनाएगी।

Contents

दिल्ली मुख्यमंत्री किरायेदार बिजली मीटर योजना: तालिका विवरण

यहां तालिका प्रारूप में दिल्ली मुख्यमंत्री किराएदार बिजली मीटर योजना का अवलोकन दिया गया है। नीचे दी गई टेबल के माध्यम से आप इस योजना से जुड़ी प्रमुख जानकारियां प्राप्त कर सकते हैं। 

योजना का नाम दिल्ली मुख्यमंत्री किराएदार बिजली मीटर योजना
लांच की तारीख अप्रैल 2020
लॉन्च किया गया दिल्ली सरकार द्वारा 
उद्देश्य किराएदारों को रियायती दरों पर बिजली उपलब्ध कराना
पात्रता मापदंड दिल्ली में रहने वाले और मकान मालिक के मीटर से बिजली का उपयोग करने वाले किराएदार
योजना का लाभ सब्सिडी वाली बिजली दरें
आवेदन की प्रक्रिया विद्युत वितरण कंपनी (डिस्कॉम) की वेबसाइट के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन
आवश्यक दस्तावेज आधार कार्ड, रेंट एग्रीमेंट, नवीनतम बिजली बिल
कार्यान्वयन एजेंसी दिल्ली बिजली वितरण कंपनियां (डिस्कॉम)
सब्सिडी राशि ₹800 प्रति माह तक
भुगतान का प्रकार डिजिटल प्लेटफॉर्म के माध्यम से मासिक बिलिंग
संपर्क जानकारी टोल-फ्री हेल्पलाइन: 19124
आधिकारिक वेबसाइट https://www.derc.gov.in/

दिल्ली मुख्यमंत्री किराएदार बिजली मीटर योजना 2023के लिए पात्रता मानदंड

दिल्ली मुख्यमंत्री किराएदार बिजली मीटर योजना के लिए पात्रता मानदंड इस प्रकार हैं:

  • आवेदक दिल्ली में रहने वाला किरायेदार होना चाहिए।
  • बिजली कनेक्शन मकान मालिक के नाम पर होना चाहिए।
  • मकान मालिक को किरायेदार के लिए एक अलग मीटर लगाने के लिए तैयार होना चाहिए।
  • किराएदार का मकान मालिक के साथ रेंट एग्रीमेंट होना चाहिए।
  • किराएदार के पास वैध आधार कार्ड होना चाहिए।
  • किरायेदार की बिजली खपत प्रति माह 200 यूनिट तक होनी चाहिए।
यह भी पढ़ें ->   Any ROR Anywhere: Rural & Urban Land Records in Gujarat 7/12 - Check by Owner Name

दिल्ली के मुख्यमंत्री द्वारा शुरू की गई इस योजना के माध्यम से निश्चित ही राज्य के मध्यमवर्गीय किरायेदारों को लाभ प्राप्त होगा। आपको यह भी ध्यान रखना आवश्यक है कि इस योजना में केवल उन्हीं नागरिकों को शामिल किया जाएगा जो ऊपर बताए गए पात्रता शर्तों को पूरा करते हैं। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि पात्रता मानदंड परिवर्तन के अधीन हो सकते हैं और योजना के लिए आवेदन करने से पहले नवीनतम पात्रता मानदंड की जांच करने की सलाह दी जाती है।

मुख्यमंत्री किराएदार बिजली मीटर योजना 2003 हेतु आवश्यक दस्तावेज

दिल्ली मुख्यमंत्री किराएदार बिजली मीटर योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज इस प्रकार हैं:

  • आधार कार्ड: किरायेदार के पास पहचान के प्रमाण के रूप में एक वैध आधार कार्ड होना चाहिए।
  • रेंट एग्रीमेंट: किराएदार को मकान मालिक के साथ हुए रेंट एग्रीमेंट की कॉपी मुहैया करानी चाहिए।
  • नवीनतम बिजली बिल: किरायेदार को मकान मालिक के मीटर के लिए नवीनतम बिजली बिल की एक प्रति प्रदान करनी चाहिए।
  • बैंक खाते का विवरण: किरायेदार को सब्सिडी राशि जमा करने के लिए अपने बैंक खाते का विवरण प्रदान करना चाहिए।
  • पासपोर्ट साइज की तस्वीर: किरायेदार को हाल ही में पासपोर्ट आकार की तस्वीर प्रदान करनी चाहिए।

इच्छुक आवेदकों को ऊपर बताए गए सभी दस्तावेजों की फोटोकॉपी को आवेदन पत्र के साथ जमा करना होगा। आपको अपने सभी दस्तावेजों की फोटोकॉपी के ऊपर अपने हस्ताक्षर भी करने होंगे। अगर आपको ही गलत दस्तावेज या जानकारी विभाग में जमा करते हैं तो आपका आवेदन निरस्त किया जा सकता है। इसके साथ साथ यदि विभाग द्वारा आपके आवेदन पत्र में अनापत्ति जताई जाती है तो आप पर कानूनी कार्रवाई भी की जा सकती है। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि आवश्यक दस्तावेज परिवर्तन के अधीन हो सकते हैं और योजना के लिए आवेदन करने से पहले नवीनतम आवश्यकताओं की जांच करने की सलाह दी जाती है।

मुख्यमंत्री किरायेदार बिजली मीटर योजना के लिए आवेदन प्रक्रिया

मुख्यमंत्री किरायेदार बिजली मीटर योजना 2023 का लाभ लेने के इच्छुक किरायेदार इसके लिए राज्य सरकार की आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से आवेदन कर सकते हैं। आवेदन प्रक्रिया सरल है और इसे ऑनलाइन पूरा किया जा सकता है।

आवेदकों को अपने आधार कार्ड और हालिया पासपोर्ट आकार की तस्वीर के साथ अपने व्यक्तिगत और किराये के विवरण प्रदान करने की आवश्यकता होगी। एक बार आवेदन जमा हो जाने के बाद, बिजली वितरण कंपनी आवेदक के किराए के आवास पर प्रीपेड बिजली मीटर स्थापित करेगी।

इस योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन पत्र जमा करने की पूरी प्रक्रिया नीचे चरण चरण चरण बताई गई है:

  • दिल्ली में बिजली वितरण कंपनी (डिस्कॉम) की वेबसाइट पर जाएं। दो डिस्कॉम बीएसईएस और टाटा पावर दिल्ली डिस्ट्रीब्यूशन लिमिटेड (टीपीडीडीएल) हैं।
  • वेबसाइट के होमपेज पर मुख्यमंत्री किराएदार बिजली मीटर योजना के लिए आवेदन करने का विकल्प देखें।
  • आवेदन करने के लिए लिंक पर क्लिक करें और आपको आवेदन पृष्ठ पर भेज दिया जाएगा।
  • अपना नाम, पता, आधार कार्ड नंबर, बैंक खाता विवरण आदि जैसे आवश्यक विवरण भरें।
  • आवश्यक दस्तावेज जैसे रेंट एग्रीमेंट, आधार कार्ड, नवीनतम बिजली बिल और पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ अपलोड करें।
  • आवेदन पत्र की समीक्षा करें और सुनिश्चित करें कि सभी विवरण और दस्तावेज सही हैं।
  • आवेदन पत्र जमा करें और भविष्य के संदर्भ के लिए आवेदन संख्या को नोट कर लें।
  • डिस्कॉम आवेदन को सत्यापित करेगा और किरायेदार के लिए एक अलग मीटर स्थापित करेगा।
  • सब्सिडी की राशि मासिक आधार पर किरायेदार के बैंक खाते में जमा की जाएगी।
यह भी पढ़ें ->   मुख्यमंत्री सिविल सेवा प्रोत्साहन योजना 2023 बिहार: BPSC/UPSC विद्यार्थी पंजीकरण व पात्रता

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि आवेदन प्रक्रिया परिवर्तन के अधीन हो सकती है और योजना के लिए आवेदन करने से पहले नवीनतम आवेदन प्रक्रिया की जांच करने की सलाह दी जाती है।

दिल्ली सीएम किराएदार बिजली मीटर योजना के लिए महत्वपूर्ण लिंक

दिल्ली मुख्यमंत्री किराएदार बिजली मीटर योजना से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण लिंक इस प्रकार हैं:

  1. बीएसईएस दिल्ली मुख्यमंत्री किराएदार बिजली मीटर योजना: https://www.bsesdelhi.com/HTML/Campaigns/mkbmy.html
  2. टाटा पावर दिल्ली डिस्ट्रीब्यूशन लिमिटेड (टीपीडीडीएल) मुख्यमंत्री किराएदार बिजली मीटर योजना: https://www.tatapower-ddl.com/mkby
  3. दिल्ली सरकार विद्युत विभाग: http://power.delhi.gov.in/
  4. दिल्ली में डिस्कॉम:

ऊपर प्रदान किए गए लिंक के माध्यम से आप इस योजना से जुड़ी सभी जानकारियां प्राप्त कर सकते हैं। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि ये लिंक परिवर्तन के अधीन हो सकते हैं और यह सलाह दी जाती है कि उनका उपयोग करने से पहले नवीनतम लिंक की जांच कर लें।

मुख्यमंत्री किरायेदार बिजली मीटर योजना 2023 के लाभ

दिल्ली मुख्यमंत्री किरायेदार बिजली मीटर योजना 2023 राज्य में किरायेदारों को कई प्रकार के लाभ प्रदान करती है। कुछ प्रमुख लाभों में शामिल हैं:

  1. सस्ती बिजली:प्रीपेड मीटर प्रणाली के साथ, किरायेदारों को केवल उनके द्वारा उपभोग की जाने वाली बिजली के लिए भुगतान करना होगा। यह उनके समग्र बिजली बिलों को कम करने में मदद करेगा और इसे उनके लिए अधिक किफायती बना देगा।
  2. आसान रिचार्जिंग विकल्प:किरायेदारों के पास अपने प्रीपेड बिजली मीटरों को ऑनलाइन रिचार्ज करने का विकल्प होगा, मोबाइल ऐप के माध्यम से या निर्दिष्ट रिचार्ज बिंदुओं पर। इससे उनके लिए अपने बिजली के उपयोग के लिए भुगतान करना अधिक सुविधाजनक हो जाएगा।
  3. कोई सुरक्षा जमा नहीं:पारंपरिक बिजली कनेक्शनों के विपरीत, प्रीपेड मीटर सिस्टम में किरायेदारों को कोई सुरक्षा जमा राशि का भुगतान करने की आवश्यकता नहीं होती है। इससे उनके लिए बिजली कनेक्शन लेने की प्रक्रिया को आसान और अधिक किफायती बनाने में मदद मिलेगी।
  4. बिलिंग में पारदर्शिता:प्रीपेड मीटर प्रणाली किरायेदारों को एक पारदर्शी बिलिंग प्रणाली प्रदान करती है। वे देख सकेंगे कि उन्होंने कितनी बिजली की खपत की है और उन्हें अपने मीटर को रिचार्ज करने के लिए कितनी जरूरत है।
  5. बिजली आपूर्ति में सुधार :मुख्यमंत्री किराएदार बिजली मीटर योजना के कार्यान्वयन के साथ, राज्य सरकार का लक्ष्य राज्य में बिजली की आपूर्ति और मांग के बीच की खाई को पाटना है। यह राज्य में समग्र बिजली आपूर्ति में सुधार करने में मदद करेगा और यह सुनिश्चित करेगा कि किरायेदारों की विश्वसनीय बिजली तक पहुंच हो।

मुख्यमंत्री किराएदार बिजली मीटर योजना के लिए संपर्क विवरण

दिल्ली मुख्यमंत्री किराएदार बिजली मीटर योजना के लिए कुछ संपर्क विवरण यहां दिए गए हैं:

  1. टोल-फ्री हेल्पलाइन: 19124 (24×7 उपलब्ध)
  2. ईमेल:
    • बीएसईएस दिल्ली: CustomerCare@bsesdelhi.com
    • टीपीडीडीएल: customercare@tatapower-ddl.com
  3. शिकायत निवारण:

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि ये संपर्क विवरण परिवर्तन के अधीन हो सकते हैं और सलाह दी जाती है कि उनका उपयोग करने से पहले नवीनतम संपर्क विवरणों की जांच कर लें।

सीएम किराएदार बिजली मीटर योजना के लिए अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

दिल्ली मुख्यमंत्री किराएदार बिजली मीटर योजना के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले कुछ प्रश्न (एफएक्यू) यहां दिए गए हैं:

यह भी पढ़ें ->   राजस्थान (ग्रामीण/शहरी) शौचालय निर्माण योजना 2023: लाभार्थी सूची व आवेदन ऑनलाइन

दिल्ली मुख्यमंत्री किराएदार बिजली मीटर योजना क्या है?

दिल्ली मुख्यमंत्री किराएदार बिजली मीटर योजना दिल्ली सरकार द्वारा दिल्ली में रहने वाले किरायेदारों को उनके लिए अलग बिजली मीटर स्थापित करके सस्ती बिजली प्रदान करने के लिए शुरू की गई एक योजना है।

योजना के लिए कौन पात्र है?

दिल्ली में रहने वाले किरायेदार जिनका बिजली कनेक्शन उनके मकान मालिक के नाम पर है, और जिनकी खपत प्रति माह 200 यूनिट तक है, इस योजना के लिए पात्र हैं।

योजना के लिए आवेदन करने के लिए किन दस्तावेजों की आवश्यकता है?

आवश्यक दस्तावेजों में आधार कार्ड, किराया समझौता, नवीनतम बिजली बिल, बैंक खाता विवरण और पासपोर्ट आकार की तस्वीर शामिल हैं।

मैं योजना के लिए कैसे आवेदन कर सकता हूं?

आप दिल्ली में बिजली वितरण कंपनी (DISCOM) की वेबसाइट पर जाकर और आवेदन प्रक्रिया का पालन करके योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

क्या योजना के तहत कोई सब्सिडी उपलब्ध है?

हां, पात्र किरायेदारों को उनके बिजली बिल पर प्रति माह ₹800 तक की सब्सिडी प्राप्त होगी।

मुझे सब्सिडी राशि कैसे प्राप्त होगी?

सब्सिडी की राशि मासिक आधार पर किरायेदार के बैंक खाते में जमा की जाएगी।

अगर मकान मालिक मेरे लिए अलग मीटर लगाने से मना कर दे तो क्या होगा?

यह योजना जमींदारों के लिए स्वैच्छिक है, और वे अलग से मीटर लगाने के लिए बाध्य नहीं हैं। ऐसे मामलों में, किरायेदार अन्य विकल्पों पर विचार कर सकता है, जैसे उचित किराए के समझौते पर बातचीत करना जिसमें बिजली की लागत शामिल हो।

अंत में (निष्कर्ष)

मुख्यमंत्री किराएदार बिजली मीटर योजना 2023 एक क्रांतिकारी योजना है जिसका उद्देश्य राज्य में किरायेदारों को सस्ती और विश्वसनीय बिजली प्रदान करना है। इस योजना के कार्यान्वयन के साथ, किरायेदार प्रीपेड बिजली मीटर प्रणाली के लाभों का आनंद लेने में सक्षम होंगे, जिसमें सस्ती बिजली, आसान रिचार्जिंग विकल्प, बिलिंग में पारदर्शिता और बेहतर बिजली आपूर्ति शामिल है।

हमें विश्वास है कि मुख्यमंत्री किराएदार बिजली मीटर योजना यह सुनिश्चित करने के लिए एक लंबा रास्ता तय करेगी कि राज्य में हर किरायेदार के पास विश्वसनीय और सस्ती बिजली की पहुंच हो। इसलिए, यदि आप राज्य में किराएदार हैं, तो इस योजना का लाभ उठाने का अवसर न चूकें। इसके लिए आज ही आवेदन करें और प्रीपेड बिजली मीटर सिस्टम का लाभ लेना शुरू करें।