Antarjatiya Vivah Protsahan0
State Government Schemes(राज्य की योजनाएं)
1

उत्तर प्रदेश अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना – Apply, Eligibility, Documents

उत्तर प्रदेश अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना के शुभारंभ के बारे में अधिकृत खबरों के अनुसार, राज्य सरकार ने अपने राज्य में विवाह करने वाले युवक और युवती के लिए आर्थिक सहायता प्रदान करने का फैसला लिया है। इस योजना के तहत, जब किसी जनरल कैटेगरी के युवक एक अनुसूचित जाति की युवती से विवाह करता है, तो उन्हें उत्तर प्रदेश राज्य सरकार की ओर से वित्तीय सहायता के रूप में आर्थिक मदद प्रदान की जाएगी। इसके अलावा, इस योजना के लाभ उठाने के लिए उचित पात्रताएँ निर्धारित की गई हैं, जो इसलिए जरूरी हैं कि उन्हें आवश्यक दस्तावेजों की आवश्यकता होगी। इस योजना के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए आपको इस लेख को पूरा पढ़ना चाहिए, क्योंकि यह आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण साबित हो सकता है।

Contents

उत्तर प्रदेश अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना क्या है? (What is Uttar Pradesh Inter-caste Marriage Promotion Yojana) 

ऐसे बहुत से लड़के और लड़कियां हैं जो अपनी पसंद की शादी करना चाहते हैं और कुछ लोग इसे भी कर लेते हैं, हालांकि उनके परिवार उनके इस रिश्ते को स्वीकार नहीं करते हैं, इसलिए उन्हें अपने घर को छोड़कर भागना पड़ता है। इसके बाद उन्हें कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्य योगी नाथ जी ने युवाओं की इन समस्याओं को दूर करने के लिए उत्तर प्रदेश अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना की शुरुआत की है। इस योजना के अंतर्गत, उत्तर प्रदेश में अंतरजातीय विवाह करने वाले युवा को उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा ₹50000 की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।

इसके साथ ही, डॉक्टर भीमराव अंबेडकर फंड के तहत पुरस्कार के रूप में 2.5 लाख रुपए भी दिए जाएंगे, जिससे अंतरजातीय विवाह करने वाले युवा को किसी भी समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा।

उत्तर प्रदेश अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना का संक्षिप्त विवरण (Overview of Uttar Pradesh Inter-caste Marriage Promotion Yojana) 

 

योजना का नाम

उत्तर प्रदेश अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना

राज्य का नाम

उत्तर प्रदेश

किसने लांच किया

योगी आदित्यनाथ

योजना का उद्देश्य

जातिवाद को खत्म करना और अंतर्जातीय विवाह को बढ़ावा देना।

योजना के लाभार्थी

अंतरजातीय विवाह करने वाले बालक बालिका

योजना का प्रकार

राज्य सरकार की योजना

योजना वर्ष

2019

ऑफिसियल वेबसाइट

http://samajkalyan.up.gov.in/en

यह भी पढ़ें ->   Bihar Aaksmik Fasal Yojana 2023

 

उत्तर प्रदेश अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना के फायदे और विशेषता (Uttar Pradesh Inter-caste Marriage Promotion Yojana) 

  • इस योजना के तहत, अंतर जाति विवाह करने वाले युवाओं को आर्थिक सहायता प्राप्त करने का अवसर मिलता है।
  • इस योजना के माध्यम से, समाज में जातिगत भेदभाव को कम करने और अंतर जाति विवाहों को प्रोत्साहित करने का प्रयास किया जाता है।
  • इस योजना के अंतर्गत, उत्तर प्रदेश में अंतरजातीय विवाह करने वाले युवा को उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा ₹50000 की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।
  • इसके साथ ही, डॉक्टर भीमराव अंबेडकर फंड के तहत पुरस्कार के रूप में 2.5 लाख रुपए भी दिए जाएंगे, जिससे अंतरजातीय विवाह करने वाले युवा को किसी भी समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा।

उत्तर प्रदेश अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना की पात्रता (Eligibility of Uttar Pradesh Inter-caste Marriage Promotion Yojana) 

  • उत्तर प्रदेश (यूपी) में पति और पत्नी दोनों को अपना स्थायी निवास होना चाहिए, और उनके पास इसका सबूत होना चाहिए।
  • जोड़े में दुल्हन या दुल्हन (एक व्यक्ति), SC या ST (अनुसूचित जाति या अनुसूचित जनजाति) और सामान्य श्रेणी जाति (दूसरा व्यक्ति) के अंतर्गत होना चाहिए।
  • जोड़ा केवल सामाजिक कल्याण विभाग में अपनी पहली शादी के लिए इस अंतर्जातीय विवाह योजना के लिए आवेदन कर सकता है। यह योजना दूसरी शादी या तलाकशुदा जोड़े के लिए लागू नहीं है।
  • जोड़ा को हिंदू विवाह अधिनियम 1955 के तहत किसी भी संबंधित रजिस्ट्रार कार्यालय में अपनी शादी को पंजीकृत करना होगा, यदि जोड़े से किसी तरह का आपत्ति नहीं है और उनके खिलाफ कोई कानूनी मामला नहीं है, तो परिवार, दोस्तों या रिश्तेदारों में से किसी भी व्यक्ति को।
  • इस योजना का लाभ केवल पति और पत्नी को ही दिया जाता है। यदि जोड़े किसी अन्य राज्य या केंद्र सरकार से किसी अन्य अंतर-जाति विवाह से संबंधित योजना का पहले से ही लाभ उठा रहे हैं, तो वे इस योजना के लिए पात्र नहीं हैं।
  • केवल कानूनी आयु पूरी कर चुके जोड़े को लाभ दिया जाता है। पति को 21 वर्ष से ऊपर की उम्र होनी चाहिए और पत्नी को 18 साल से ऊपर की होना चाहिए। इस अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना के लिए आवेदन करने के समय, उन्हें अपनी उम्र का सबूत होनी चाहिए।
  • कल्याण विभाग ने इस योजना के लिए कोई आय सीमा मानदंड नहीं तय किया है, इसलिए उपरोक्त नियमों और विनियमों के अनुसार किसी भी व्यक्ति द्वारा शादी करने वाले व्यक्ति का आवेदन जमा किया जा सकता है।

उत्तर प्रदेश अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज ( Documents required for Uttar Pradesh Inter-caste Marriage Promotion Yojana) 

  • आवेदकों को अपने पास आधार कार्ड होने की आवश्यकता होगी। पति और पत्नी दोनों के लिए यूआईडी प्रमाणपत्र की आवश्यकता होगी। आधार कार्ड के बिना, जोड़े प्रोत्साहन योजना के लिए आवेदन करने की अनुमति नहीं होगी।
  • जाति प्रमाण पत्र के लिए आवेदन करने की आवश्यकता होगी जिसमे पति या पत्नी (एक व्यक्ति) के पास अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति प्रमाण पत्र और दूसरे व्यक्ति के पास सामान्य जाति श्रेणी प्रमाण पत्र होनी चाहिए। 
  • जोड़े को आय प्रमाण पत्र की भी आवश्यकता होगी जो संबंधित प्राधिकारी द्वारा प्रमाणित किया जाना चाहिए। आय प्रमाण पत्र में, जोड़ों को सभी स्रोतों से अपनी वार्षिक आय दिखानी होगी।
  • दुल्हन और दूल्हे के पासपोर्ट की आकार की तस्वीर होनी चाहिए। इन तस्वीरों को आवेदन पत्र हार्ड कॉपी पर पेस्ट करने से पहले आवेदन को कल्याण विभाग कार्यालय में जमा करना चाहिए।
  • जोड़े को अपनी आयु प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा जिसमे उन्हें पति के लिए 21 साल और पत्नी के लिए 18 साल से ऊपर की उम्र प्रमाणित करनी होगी। आयु प्रमाण पत्र में, वे स्कूल छोड़ने का प्रमाण पत्र, जन्म प्रमाण पत्र, पासपोर्ट की प्रति, 10 वीं कक्षा की संख्या प्रमाण पत्र या किसी अन्य आधिकृत दस्तावेज़ का उपयोग कर सकते हैं जो संबंधित प्राधिकारी द्वारा जारी किए गए हों।
  • आपको उत्तर प्रदेश राज्य के निवास प्रमाण (पति और पत्नी दोनों) को भी जमा करना होगा। आवेदन के लिए आप निवास प्रमाण पत्र, राशन कार्ड की प्रतिलिपि, ड्राइविंग लाइसेंस की प्रति, आधार कार्ड की प्रति, मतदाता आईडी कार्ड या राशन कार्ड की प्रति का उपयोग कर सकते हैं।
  • आपको आवेदन पत्र के साथ विवाह प्रमाण भी संलग्न करनी होगी। विवाह प्रमाण में, आप विवाह निमंत्रण पत्र का उपयोग संबंधित रजिस्ट्रार कार्यालय या समकक्ष दस्तावेज़ के रूप में जारी किए गए विवाह प्रमाण पत्र के साथ कर सकते हैं।
  • जोड़े को अपनी बैंक खाता पासबुक की प्रति भी संलग्न करनी होगी। जोड़े के नाम के साथ-साथ संयुक्त खाता नियमों के अनुसार अंतरजातीय विवाह के लिए प्रोत्साहन राशि प्राप्त करने के लिए पति और पत्नी दोनों को बैंक में खाता होना चाहिए। 
  • आपको शादी के समय की तस्वीर आवेदन पत्र के साथ संलग्न करनी होगी जिसमे दुल्हन और दुल्हन का स्पष्ट चेहरा दिखाना चाहिए। यह तस्वीर विवाह समारोह के समय की होनी चाहिए।
यह भी पढ़ें ->   Karnataka ST Inter Caste Marriage Assistance Scheme 2023

उत्तर प्रदेश अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना का आवेदन कैसे करें ( How to apply for Uttar Pradesh Inter-caste Marriage Promotion Yojana)

जो भी उत्तर प्रदेश के नागरिक अंतर जाति विवाह किए हैं और जिन्हें उत्तर प्रदेश अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना के लाभ प्राप्त करने के लिए आवेदन करना है, उन्हें सबसे पहले उत्तर प्रदेश अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना पीडीएफ फॉर्म डाउनलोड करना चाहिए।

  • आवेदन फॉर्म डाउनलोड करने के बाद उसका प्रिंटआउट लेना होगा। और इसमें पूछी गई सभी जानकारी सही-सही भरनी होगी।
  • उसके बाद आवेदन फॉर्म के साथ निर्धारित दस्तावेजों को लगाकर जिले के समाज कल्याण विभाग में जाकर जमा करना होगा।
  • समाज कल्याण विभाग में आवेदन फॉर्म जमा करने के बाद, आपके आवेदन फॉर्म में दी गई जानकारी का परीक्षण अधिकारी द्वारा किया जाएगा।
  • यदि आपके द्वारा दी गई जानकारी सही होगी, तो आपको यह जानकारी दी जाएगी कि आपको योजना के लाभ प्रदान कर दिए जाएंगे कब तक।

उत्तर प्रदेश अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना से संबंधित लिंक (Related link related to Uttar Pradesh Inter-caste Marriage Promotion Yojana) 

उत्तर प्रदेश अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना का संपर्क सूत्र (Contact Details for Uttar Pradesh Inter-caste Marriage Promotion Yojana) 

संपर्क व्यक्ति: श्री एसके रॉय (उप निदेशक)

संपर्क फ़ोन नंबर: 0522-220 9 263

आधिकारिक वेबसाइट: http://www.dirsamajkalyan.in/directory.htm

संपर्क वेब पेज: http://www.dirsamajkalyan.in/contactus.htm

उत्तर प्रदेश अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना  के अंतर्गत पूछे जाने वाले प्रश्न ( Frequently Asked Questions (FAQs for Uttar Pradesh Inter-caste Marriage Promotion Yojana)

1.योजना के अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन उत्तर प्रदेश कितनी धनराशि दी जाएगी?

लाभ उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा 300000 रुपए की आर्थिक सहायता देगी जो योजना का लाभ लेने योग्य लाभार्थी को मिलेगी।

2.योजना की शुरुआत किसने की?

योजना की शुरुआत उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री आदित्य योगी नाथ जी द्वारा की गई है।

3.योजना का लाभ किसे प्रदान किया जाएगा?

योजना का लाभ विवाह के लिए इंटर कास्ट मैरिज करने वाले पति और पत्नी को प्रदान किया जाएगा।

4.योजना का लाभ लेने वाले पति-पत्नी के लिए कितनी आयु निर्धारित की गई है?

योजना का लाभ लेने वाले पति की आयु 21 वर्ष और पत्नी की आयु 18 वर्ष से अधिक आयु निर्धारित की गई है।

5.योजना के लिए आवेदन कैसे करें?

आवेदन करने के लिए आपको योजना का आवेदन सॉन्ग डाउनलोड करके उसमें पूछे गए सभी जानकारी को भरकर अपने जिले के समाज कल्याण विभाग में जमा करना होगा।

One thought on “उत्तर प्रदेश अंतरजातीय विवाह प्रोत्साहन योजना – Apply, Eligibility, Documents

  1. I am swarnima gautam
    We have married to each other happiness.please tell me how can take advantage of intercaste marriage

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *