Hp Parvat Dhara Yojana Himachal Pradesh0
State Government Schemes(राज्य की योजनाएं)

हिमाचल प्रदेश पर्वत धारा योजना 2023: स्वरोजगार हेतु रजिस्ट्रेशन, पात्रता व दिशा-निर्देश (PDF Download)

पर्वत धारा योजना हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा राज्य में पारिस्थितिक पर्यटन और साहसिक खेलों को बढ़ावा देने के लिए शुरू की गई एक प्रमुख योजना है। यह योजना स्थानीय समुदायों को विभिन्न प्रोत्साहन प्रदान करके राज्य के दूरस्थ और अविकसित क्षेत्रों में पर्यटन गतिविधियों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से शुरू की गई थी।

इस योजना के तहत, सरकार ने राज्य के विभिन्न हिस्सों में ट्रेकिंग, कैंपिंग, रिवर राफ्टिंग, पैराग्लाइडिंग और अन्य साहसिक खेलों जैसी विभिन्न गतिविधियों की शुरुआत की है। इस योजना से राज्य में और अधिक पर्यटकों को आकर्षित करने की उम्मीद है, जो न केवल स्थानीय लोगों के लिए राजस्व उत्पन्न करने में मदद करेगा बल्कि राज्य की प्राकृतिक सुंदरता को प्रदर्शित करने का अवसर भी प्रदान करेगा। पर्वत धारा योजना के माध्यम से, सरकार राज्य में स्थायी पर्यटन को बढ़ावा देने और स्थानीय समुदायों के लिए रोजगार के अवसर पैदा करने की कोशिश कर रही है।

Contents

एचपी पर्वत धारा योजना 2023: संक्षिप्त विवरण

नीचे दी गई तालिका में हिमाचल प्रदेश राज्य सरकार द्वारा शुरू की गई पर्वत धारा योजना 2023 के बारे में संक्षिप्त जानकारी इस प्रकार है:

नाम एचपी पर्वत धारा योजना
लॉन्च किया गया हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा
उद्देश्य राज्य के बागवानी और वानिकी क्षेत्रों के सतत विकास को बढ़ावा देना
केंद्र बिंदु के क्षेत्र बागवानी, कृषि वानिकी, औषधीय पौधे, वृक्षारोपण वानिकी और बांस वृक्षारोपण
बजट ₹100 करोड़
कार्यान्वयन हिमाचल प्रदेश वन विभाग
कार्यान्वयन अवधि 2021-22 से 2025-26
फ़ायदे किसानों और बेरोजगार युवाओं के लिए आजीविका सृजन, प्राकृतिक संसाधनों का संरक्षण और इको-टूरिज्म को बढ़ावा देना
लक्षित लाभार्थी किसान, बेरोजगार युवा, महिला स्वयं सहायता समूह और वन पर निर्भर समुदाय
प्रमुख विशेषताऐं वित्तीय सहायता, तकनीकी सहायता, बाजार संपर्क और क्षमता निर्माण
निगरानी केंद्रीय निगरानी समिति और राज्य स्तरीय निगरानी समिति

हिमाचल प्रदेश में पर्वत धारा योजना 2023 क्या है?

हिमाचल प्रदेश पर्वत धारा योजना भारत में हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा राज्य के पर्वतीय क्षेत्रों में स्थायी आजीविका और पर्यावरण संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए शुरू की गई एक प्रमुख योजना है। यह योजना 2019 में हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर द्वारा राज्य के पर्वतीय क्षेत्रों में रहने वाले स्थानीय समुदायों को रोजगार के अवसर प्रदान करने और क्षेत्र में सतत विकास को बढ़ावा देने के उद्देश्य से शुरू की गई थी।

इस योजना के तहत, सरकार राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को पर्यटन के बुनियादी ढांचे के विकास, जल संरक्षण और स्थायी आजीविका के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करती है। हिमाचल प्रदेश पर्वत धारा योजना का मुख्य उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि राज्य के पर्वतीय क्षेत्रों में स्थानीय समुदाय पर्यावरण के संरक्षण में योगदान देने के साथ-साथ स्थायी साधनों के माध्यम से आय उत्पन्न करने में सक्षम हैं।

यह भी पढ़ें ->   Inter Caste Marriage Scheme Tripura: How to Apply for Incentive

हिमाचल में पर्वत धारा योजना 2023 के लिए पात्रता मानदंड

पर्वत धारा योजना हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में आजीविका के अवसर प्रदान करने और सतत विकास को बढ़ावा देने के लिए शुरू की गई एक योजना है। योजना के लिए आवेदन करने के लिए पात्रता मानदंड यहां दिए गए हैं:

  1. आवेदक हिमाचल प्रदेश का स्थायी निवासी होना चाहिए।
  2. आवेदक की आयु 18 से 50 वर्ष के बीच होनी चाहिए।
  3. इस योजना के लिए आवेदन करने के लिए किसी विशेष शैक्षिक योग्यता की आवश्यकता नहीं है।
  4. जिस योजना के लिए वे आवेदन कर रहे हैं, उसके आधार पर आवेदक के पास कम से कम 0.5 से 2 हेक्टेयर भूमि होनी चाहिए।
  5. इस योजना में तीन श्रेणियां हैं – कृषि, बागवानी और वानिकी। आवेदक इन श्रेणियों में से किसी एक से संबंधित होना चाहिए और उसे चुने हुए क्षेत्र का कार्यसाधक ज्ञान होना चाहिए।
  6. आवेदक की वार्षिक आय सामान्य वर्ग के लिए ₹2.50 लाख और अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिए ₹3.00 लाख से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  7. आवेदक के नाम से बैंक खाता होना चाहिए।
  8. महिलाओं, विकलांग व्यक्तियों और वरिष्ठ नागरिकों को प्राथमिकता दी जाएगी।

यह ध्यान रखना आवश्यक है कि ये पात्रता मानदंड सरकार के विवेक पर बदल सकते हैं। इसलिए, आवेदकों को सलाह दी जाती है कि वे योजना के लिए आवेदन करने से पहले नवीनतम पात्रता मानदंड की जांच कर लें।

एचपी पर्वत धारा योजना 2023 के लिए आवश्यक दस्तावेज

एचपी पर्वत धारा योजना 2023 के लिए आवेदन करने के लिए, आपको निम्नलिखित दस्तावेज देने होंगे:

  1. निवास प्रमाण: कोई भी दस्तावेज जो साबित करता है कि आप हिमाचल प्रदेश के स्थायी निवासी हैं, जैसे मतदाता पहचान पत्र, आधार कार्ड या राशन कार्ड।
  2. आयु प्रमाण: कोई भी दस्तावेज जो आपकी आयु को प्रमाणित करता है, जैसे जन्म प्रमाण पत्र, आधार कार्ड, या स्कूल छोड़ने का प्रमाण पत्र।
  3. भूमि स्वामित्व प्रमाण: कोई भी दस्तावेज जो यह साबित करता है कि आपके पास कम से कम 0.5 से 2 हेक्टेयर भूमि है, जैसे भूमि स्वामित्व दस्तावेज, राजस्व रिकॉर्ड या भूस्वामी से एनओसी।
  4. शैक्षिक योग्यता प्रमाण: यदि आपके पास कोई शैक्षिक योग्यता है, तो आपको प्रमाण पत्र, डिग्री या मार्कशीट जैसे प्रासंगिक दस्तावेज प्रदान करने होंगे।
  5. बैंक खाता विवरण: आपको अपना खाता नंबर और IFSC कोड सहित अपना बैंक खाता विवरण प्रदान करना होगा।
  6. आय प्रमाण पत्र: आपको एक सक्षम प्राधिकारी, जैसे तहसीलदार या एसडीएम द्वारा जारी आय प्रमाण पत्र प्रदान करना होगा।
  7. श्रेणी प्रमाण: कोई भी दस्तावेज़ जो यह साबित करता है कि आप कृषि, बागवानी, या वानिकी में से किसी एक श्रेणी से संबंधित हैं।
  8. प्राथमिकता प्रमाण: कोई भी दस्तावेज जो यह साबित करता है कि आप प्राथमिकता श्रेणी से संबंधित हैं, जैसे कि विकलांगता प्रमाण पत्र, वरिष्ठ नागरिक पहचान पत्र, या महिला अधिकारिता प्रमाण पत्र।

यदि आपके पास ऊपर बताए गए सभी दस्तावेज हैं, तो आप इस हिमाचल पर्वत धारा योजना 2023 का लाभ प्राप्त कर सकते हैं। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि ये दस्तावेज सरकार के विवेक के आधार पर बदल सकते हैं। इसलिए, आवेदकों को सलाह दी जाती है कि वे योजना के लिए आवेदन करने से पहले आवश्यक दस्तावेजों की नवीनतम सूची की जांच कर लें।

यह भी पढ़ें ->   Madhu Babu Pension Yojana (MBPY) 2023 Odisha: Apply Online, Eligibility, Documents & Beneficiary List

हिमाचल पर्वत धारा योजना के लिए ऑनलाइन/ऑफलाइन आवेदन कैसे करें?

हिमाचल पर्वत धारा योजना के लिए आवेदन प्रक्रिया ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीके से की जा सकती है। योजना के लिए आवेदन करने के चरण यहां दिए गए हैं:

ऑफलाइन आवेदन प्रक्रिया

  1. अपने क्षेत्र में निकटतम कॉमन सर्विस सेंटर (CSC) या बागवानी या वन विभाग पर जाएँ।
  2. पर्वत धारा योजना के लिए आवेदन पत्र प्राप्त करें।
  3. सभी आवश्यक विवरणों के साथ आवेदन पत्र भरें और आवश्यक दस्तावेज संलग्न करें।
  4. संबंधित विभाग को दस्तावेजों के साथ आवेदन पत्र जमा करें।
  5. आपको अपने आवेदन की रसीद प्राप्त होगी, जिसका उपयोग आप अपने आवेदन की स्थिति को ट्रैक करने के लिए कर सकते हैं।

ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया

  1. बागवानी विभाग या हिमाचल प्रदेश के वन विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं (https://eudyan.hp.gov.in/Department/index.aspx).
  2. वेबसाइट पर पर्वत धारा योजना ऑनलाइन आवेदन लिंक देखें।
  3. लिंक पर क्लिक करें और ऑनलाइन आवेदन पत्र में सभी आवश्यक विवरण भरें।
  4. सभी आवश्यक दस्तावेजों की स्कैन कॉपी अपलोड करें।
  5. एक बार जब आप सभी विवरण भर देते हैं, तो अपने आवेदन की समीक्षा करें और इसे ऑनलाइन जमा करें।
  6. आपको एक आवेदन संदर्भ संख्या प्राप्त होगी, जिसका उपयोग आप अपने आवेदन की स्थिति को ट्रैक करने के लिए कर सकते हैं।

हिमाचल प्रदेश पर्वत धारा योजना आवेदन पत्र जमा करने के बाद आपको विभाग से अनुमोदन की प्रतीक्षा करनी होगी। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि आवेदन की सटीक प्रक्रिया सरकार के विवेक के आधार पर भिन्न हो सकती है। इसलिए, आवेदकों को सलाह दी जाती है कि वे योजना के लिए आवेदन करने से पहले नवीनतम आवेदन प्रक्रिया की जांच कर लें।

हिमाचल प्रदेश पर्वत धारा योजना के लिए लाभ/विशेषताएं/कार्यान्वयन/कार्यप्रवाह

हिमाचल प्रदेश पर्वत धारा योजना भारत में हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा 2019 में राज्य के पहाड़ी क्षेत्रों में प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन और जल संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए शुरू की गई एक योजना है। इस योजना के लाभ, विशेषताएं, कार्यान्वयन और कार्यप्रवाह निम्नलिखित हैं:

फ़ायदे:

  • इस योजना का उद्देश्य पहाड़ी क्षेत्रों में स्थित खेतों और खेतों को पानी उपलब्ध कराना है और इस प्रकार कृषि और बागवानी को बढ़ावा देना है।
  • यह योजना जल संसाधनों के संरक्षण पर भी ध्यान केंद्रित करती है और जल-कुशल सिंचाई तकनीकों के उपयोग को प्रोत्साहित करती है।
  • यह मृदा संरक्षण, वृक्षारोपण और वनीकरण को बढ़ावा देता है, जिससे मृदा अपरदन और भूस्खलन को कम करने में मदद मिल सकती है।
  • यह योजना पहाड़ी क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के लिए वृक्षारोपण, चेक डैम के निर्माण और जल संरक्षण संरचनाओं जैसी विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से रोजगार के अवसर पैदा करती है।

विशेषताएँ:

  • इस योजना के तहत जल संसाधनों के संरक्षण के लिए पहाड़ी क्षेत्रों में चेक डैम, तालाब और जल संरक्षण संरचनाओं का निर्माण किया जाता है।
  • इस योजना में मिट्टी के कटाव और भूस्खलन को रोकने और क्षेत्र में हरित आवरण को बढ़ाने के लिए वृक्षारोपण गतिविधियाँ भी शामिल हैं।
  • यह पानी के संरक्षण और फसल की उपज बढ़ाने के लिए ड्रिप सिंचाई और स्प्रिंकलर सिंचाई जैसी जल-कुशल सिंचाई तकनीकों के उपयोग को बढ़ावा देता है।

कार्यान्वयन:

  • यह योजना हिमाचल प्रदेश सरकार के सिंचाई और जन स्वास्थ्य विभाग द्वारा लागू की गई है।
  • विभाग उन पहाड़ी क्षेत्रों की पहचान करता है जिन्हें प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण के लिए जल संरक्षण संरचनाओं और अन्य गतिविधियों की आवश्यकता होती है।
  • योजना स्थानीय समुदायों की मदद से लागू की जाती है, और उन्हें संरचनाओं के निर्माण और रखरखाव में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।
यह भी पढ़ें ->   मुख्यमंत्री किराएदार बिजली मीटर योजना 2023 दिल्ली: ऑनलाइन आवेदन, सब्सिडी यूनिट, दस्तावेज, पात्रता व हेल्पलाइन

कार्य-प्रवाह:

  • यह योजना पहाड़ी क्षेत्रों की पहचान के साथ शुरू होती है जिन्हें प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण के लिए जल संरक्षण संरचनाओं और अन्य गतिविधियों की आवश्यकता होती है।
  • संबंधित विभाग योजना के क्रियान्वयन के लिए एक विस्तृत योजना तैयार करता है।
  • स्थानीय समुदाय योजना के कार्यान्वयन में शामिल हैं, और उन्हें जल संरक्षण संरचनाओं के निर्माण और रखरखाव के लिए प्रशिक्षित किया जाता है।
  • विभाग चेक डैम, तालाब और अन्य ढांचों के निर्माण को समय पर पूरा करने को भी सुनिश्चित करता है और इन ढांचों के रखरखाव की नियमित निगरानी भी करता है।

एचपी में संपर्क विवरण / हेल्पलाइन नंबर पर्वत धारा योजना

यहां योजना के लिए संपर्क विवरण दिया गया है:

  • विभाग: हिमाचल प्रदेश राज्य विज्ञान, प्रौद्योगिकी और पर्यावरण परिषद (HIMCOSTE)
  • पता: विज्ञान भवन, ब्लॉक नंबर 42, एसडीए कॉम्प्लेक्स, कसुम्पटी, शिमला-171009, हिमाचल प्रदेश
  • फ़ोन: 0177-2621573, 2621903, 2621969
  • ईमेल: himcoste-hp@nic.in

हिमाचल प्रदेश में पर्वत धारा योजना से संबंधित किसी भी प्रश्न के लिए आप उपर्युक्त विभाग से संपर्क कर सकते हैं।

पर्वत धारा योजना 2023 हिमाचल प्रदेश से सम्बंधित FAQs

हिमाचल प्रदेश में पर्वत धारा योजना के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (एफएक्यू) यहां दिए गए हैं:

पर्वत धारा योजना क्या है?

पर्वत धारा योजना हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा राज्य के पहाड़ी क्षेत्रों में जल संसाधनों के संरक्षण और प्रबंधन के लिए कार्यान्वित एक वाटरशेड प्रबंधन योजना है।

पर्वत धारा योजना का उद्देश्य क्या है?

पर्वत धारा योजना का मुख्य उद्देश्य वनीकरण, मृदा संरक्षण, जल संचयन और भूजल पुनर्भरण जैसी विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से हिमाचल प्रदेश के पहाड़ी क्षेत्रों में जल संसाधनों का संरक्षण और प्रबंधन करना है।

पर्वत धारा योजना से किसे लाभ हो सकता है?

इस योजना का उद्देश्य हिमाचल प्रदेश के पहाड़ी क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को लाभान्वित करना है जो कृषि, बागवानी और अन्य संबद्ध गतिविधियों पर निर्भर हैं।

मैं पर्वत धारा योजना के लिए कैसे आवेदन कर सकता हूं?

पर्वत धारा योजना के लिए आवेदन करने के लिए, आपको हिमाचल प्रदेश राज्य विज्ञान, प्रौद्योगिकी और पर्यावरण परिषद (HIMCOSTE) से संपर्क करना होगा और अपना आवेदन जमा करना होगा।

पर्वत धारा योजना के लिए आवेदन करने के लिए कौन से दस्तावेज आवश्यक हैं?

पर्वत धारा योजना के लिए आवेदन करने के लिए आवश्यक दस्तावेज योजना की विशिष्ट आवश्यकताओं के आधार पर भिन्न हो सकते हैं। सटीक विवरण जानने के लिए आप HIMCOSTE से संपर्क कर सकते हैं।

पर्वत धारा योजना के अंतर्गत कौन-कौन सी गतिविधियाँ शामिल हैं?

पर्वत धारा योजना के तहत शामिल कुछ गतिविधियों में वनीकरण, मृदा संरक्षण, जल संचयन, भूजल पुनर्भरण और चेक डैम का निर्माण शामिल हैं।

पर्वत धारा योजना के लिए फंडिंग पैटर्न क्या है?

पर्वत धारा योजना के लिए फंडिंग पैटर्न विशिष्ट योजना के आधार पर भिन्न हो सकता है। आम तौर पर, योजना सरकार द्वारा वित्त पोषित होती है और लाभार्थियों को भी एक निश्चित राशि का योगदान करना पड़ सकता है।

पर्वत धारा योजना के कार्यान्वयन की निगरानी कैसे की जाती है?

पर्वत धारा योजना के कार्यान्वयन की निगरानी जिला और राज्य स्तर पर विभिन्न सरकारी एजेंसियों और अधिकारियों द्वारा की जाती है। योजना की प्रगति और प्रभाव की नियमित रूप से समीक्षा और मूल्यांकन किया जाता है।